CBI : सोनभद्र के अनपरा के ठेकेदार को सिक्किम ले गई सीबीआई

  • सरकारी कॉलेजों में ठेकेदारी के दौरान लंबे स्तर पर हुआ भ्रष्टाचार
  • दो बार वारंट जारी, फिर भी सीबीआइ की अदालत में हाजिर नहीं


प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, अनपरा (सोनभद्र) 



सिक्किम में भ्रष्टाचार के एक मामले की जांच कर रही केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की टीम सिक्किम से जिले के अनपरा आई थी। अनपरा निवासी ठेकेदार जो सिक्किम के सरकारी काॅलेजों में ठेकेदारी के नाम पर हेराफेरी कर भ्रष्टाचार में नामजद है। उसे हिरासत में लेकर अपने साथ शिलांग लेकर चली गई।


अनपरा के लालटावर निवासी रंजीत गुप्त पुत्र स्व. अशोक गुप्त लार्सन एंड टूब्रो (एलएंडटी) के माध्यम से विभिन्न राज्यों में ठेकेदारी करता है। सिक्किम स्थित सरकारी कालेजों में स्वयं के साथ अनपरा के कुछ ठेकेदारों के कागजात पर कोटेशन देता था। इसके एवज में भुगतान राशि का बीस फीसद साथी ठेकेदारों को देकर शेष करोड़ों रुपये खुद हजम कर जाता था। जब गड़बड़ी की जांच हुई तो भ्रष्टाचार की बात सामने आई। इसे गंभीरता से लेते हुए जांच सीबीआई को सौंप दी गई। सीबीआई कोर्ट में तीन वर्षों से मुकदमा विचाराधीन है।



कोटेशन देने वाले अनपरा के अन्य ठेकेदारों से पहले ही सीबीआई की टीम पूछताछ कर चुकी है। सीबीआई कोर्ट सभी ठेकेदार रंजीत को मुख्य आरोपी बताते हुए सरकारी गवाह बन गए। इस दौरान सीबीआई कोर्ट ने रंजीत के खिलाफ दो बार गैर जमानती वारंट जारी किया लेकिन वह हाजिर नहीं हुआ। अंतत: सीबीआइ की टीम गुरुवार को रंजीत के घर पहुंची और उसे हिरासत में ले लिया। जिला चिकित्सालय में मेडिकल कराने के बाद उसे अपने साथ लेकर शिलांग लौट गई।


Post a Comment

0 Comments