Dharm-Aadhyatm : आज का पंचांग एवं राशिफल

25 नवम्बर 2020, बुधवार


विक्रम संवत 2077, शक संवत 1942


दक्षिणायन, हेमंत ऋतु, कार्तिक मास, शुक्ल पक्ष


एकादशी तिथि 26 नवम्बर प्रातः 05:10 बजे तक तत्पश्चात द्वादशी


उत्तर नक्षत्र भाद्रपद शाम 06:21 बजे तक तत्पश्चात रेवती


सिद्धि योग पूर्ण रात्रि तक


राहुकाल दोपहर 12:26 बजे से दोपहर 01:48 बजे तक


सूर्योदय 06:56 बजे, सूर्यास्त 17:54 बजे


(सूर्योदय और सूर्यास्त के समय में शहरों के हिसाब से मामूली अंतर हो सकता है।)


दिशाशूल - उत्तर दिशा में


व्रत पर्व विवरण - देवउठी-प्रबोधिनी एकादशी (स्मार्त), भीष्मपंचक व्रत प्रारंभ


विशेष : हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति रहती है।


राम रामेति रामेति। रमे रामे मनोरमे ।।

सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।


एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है। एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए। एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है। एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है, जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।


देवउठी एकादशी के दिन : 25 नवम्बर 2020 बुधवार को रात्रि 02:43 बजे से 26 नवम्बर, गुरुवार को प्रातः 05:10 बजे तक एकादशी है।


विशेष : 25 नवम्बर 2020 बुधवार को देवउठी-प्रबोधिनी एकादशी (स्मार्त) एवं 26 नवम्बर, गुरुवार को देवउठी-प्रबोधिनी एकादशी (भागवत)

विशेष : 26 नवम्बर, गुरुवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें।


निर्णयसिन्धु के प्रथम परिच्छेद में एकादशी के निर्णय में 18 भेद कहे गए हैं। कालहेमाद्रि में मार्कण्डेयजी ने कहा है : जब बहुत वाक्य के विरोध से यदि संदेह हो जाय तो एकादशी का उपवास द्वादशी को ग्रहण करें। त्रयोदशी में उसका पारणा करें।

पद्म पुराण में आता है की एकादशी व्रत के निर्णय में सब विवादों में द्वादशी को उपवास तथा त्रयोदशी में पारणा करें।

विशेष : अतः इस बार भी शास्त्र अनुसार 26 नवम्बर, गुरुवार को उपवास करें।


देवउठी एकादशी के दिन


देवउठी एकादशी के दिन भगवान विष्णु को इस मंत्र से उठाना चाहिए :


उतिष्ठ-उतिष्ठ गोविन्द, उतिष्ठ गरुड़ध्वज।

उतिष्ठ कमलकांत, त्रैलोक्यं मंगलम कुरु।।


भीष्मपञ्चक व्रत (अग्निपुराण अध्याय – २०५)


अग्निदेव कहते है : अब मैं सब कुछ देनेवाले व्रतराज ‘भीष्मपञ्चक’ विषय में बताता हूं। कार्तिक के शुक्ल पक्ष की एकादशी को व्रत ग्रहण करें। पाँच दिनों तक तीनों समय स्नान करके पाँच तिल और यवों के द्वारा देवता तथा पितरों का तर्पण करें। फिर मौन रहकर भगवान् श्रीहरि का पूजन करें। देवाधिदेव श्रीविष्णु को पंचगव्य और पंचामृत से स्नान करावें। उनके श्री अंगों में चंदन आदि सुंगधित द्रव्यों का आलेपन करके उनके सम्मुख घृतयुक्त गुग्गुल जलावें ।।१-३।।

प्रात:काल और रात्रि के समय भगवान् श्रीविष्णु को दीपदान करें। उत्तम भोज्य-पदार्थ का नैवेद्ध समर्पित करें। व्रती पुरुष ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ इस द्वादशाक्षर मन्त्र का एक सौ आठ बार (१०८) जप करें। तदनंतर घृतसिक्त तिल और जौ का अंत में ‘स्वाहा’ से संयुक्त ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ इस द्वादशाक्षर मन्त्र से हवन करें। पहले दिन भगवान् के चरणों का कमल के पुष्पों से, दुसरे दिन घुटनों और सक्थिभाग (दोनों ऊराओं) का बिल्वपत्रों से, तीसरे दिन नाभिका भृंगराज से, चौथे दिन बाणपुष्प, बिल्बपत्र और जपापुष्पों द्वारा एवं पाँचवें दिन मालती पुष्पों से सर्वांग का पूजन करें। व्रत करनेवाले को भूमि पर शयन करना चाहिए।

एकादशी को गोमय, द्वादशी को गोमूत्र, त्रयोदशी को दधि, चतुर्दशी को दुग्ध और अंतिम दिन पंचगव्य आहार करें। पौर्णमासी को ‘नक्तव्रत’ करना चाहिए। इस प्रकार व्रत करनेवाला भोग और मोक्ष दोनों काे प्राप्त कर लेता है। भीष्म पितामह इसी व्रत का अनुष्ठान करके भगवान् श्रीहरि को प्राप्त हुए थे, इसलिए यह ‘भीष्मपंञ्चक’ के नाम से प्रसिद्ध है। ब्रह्माजी ने भी इस व्रत का अनुष्ठान करके श्रीहरि का पूजन किया था। इसलिए यह व्रत पाँच उपवास आदि से युक्त है। ।।४-९।। इस प्रकार आदि आग्नेय महापुराण में ‘भीष्म पंञ्चक-व्रत का कथन’ नामक दो सौ पाँचवाँ अध्याय पूरा हुआ। ।।२०५।।


विशेष : 25 नवम्बर 2020 बुधवार से 29 नवम्बर, रविवार तक भीष्म पंचक व्रत है।


पंचक

19 दिसंबर

प्रातः 7.16 से 23 दिसंबर तड़के 4.32 बजे तक



नवंबर 2020 त्योहार

25 बुधवार देवुत्थान एकादशी

27 शुक्रवार प्रदोष व्रत (शुक्ल)

30 सोमवार कार्तिक पूर्णिमा व्रत

दिसंबर 2020

3 गुरुवार संकष्टी चतुर्थी

11 शुक्रवार उत्पन्ना एकादशी

12 शनिवार प्रदोष व्रत (कृष्ण)

13 रविवार मासिक शिवरात्रि

14 सोमवार मार्गशीर्ष अमावस्या

15 मंगलवार धनु संक्रांति

25 शुक्रवार मोक्षदा एकादशी

27 रविवार प्रदोष व्रत (शुक्ल)

30 बुधवार मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत


आज का राशिफल


मेष : आज का दिन कमजोर रहेगा। खर्चों में बढ़ोतरी से कुछ परेशान होंगे। स्वास्थ्य में सुधार होगा। ठंडे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें, इससे कफ की दिक्कत हो सकती है। काम के सिलसिले में स्थितियां पक्ष में होंगी। दूसरों के काम में हाथ न डालें। यात्रा के दौरान सावधानी बरतें। शादीशुदा जातकों का दांपत्य जीवन अच्छा रहेगा। परिवार में सुख रहेगा। आज घर में जरूरत का सामान लेकर आएंगे।


वृष : आज का दिन अनुकूल है। आपकी आय में बढ़ोतरी दिखाई देगी, जिससे उत्साह बढ़ेगा। परिवार में आपसी प्रेम बढ़ेगा। जीवन साथी का स्वास्थ्य खराब रहेगा। प्यार के मामलों में सावधानी से काम लें। किसी अन्य व्यक्ति के हस्तक्षेप से दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। काम के सिलसिले में दिन कमजोर रहेगा। अपने काम को और मजबूत बनाने की कोशिश करें।


मिथुन : आज का दिन मध्यम रहेगा। काम को लेकर स्थिति अच्छी होंगी। आप जो प्रयास करेंगे, वह उन्नति प्रदान करेंगे। मन लगाकर काम करेंगे तो नतीजे अच्छे हासिल होंगे। सुख सुविधाओं के कारण खर्चा अधिक होगा। कोई चोट या पेट दर्द हो सकता है। दांपत्य जीवन सामान्य रहेगा। प्रेम जीवन जीने वाले लोगों के जीवन में उथल पुथल मच सकती है।


कर्क : आज का दिन बढ़िया रहेगा। नए अवसरों की खोज करेंगे। आज नौकरी का आवेदन स्वीकार होने पर इंटरव्यू कॉल आ सकती है। विरोधियों को पछाड़ने में कामयाब होंगे। परिवार में प्रेम बना रहेगा। माँ का आशीर्वाद और सहयोग मिलेगा। व्यापार के लिए आज का दिन बढ़िया है। कुछ नए लोगों के साथ मिलकर काम को आगे बढ़ाने में सफलता मिलेगी। आज व्यापार में लाभ मिल सकता है।


सिंह : आज का दिन सतर्कता भरा रहेगा। स्वास्थ्य में सुधार आपके ऊपर निर्भर करेगा। बेवजह की चिंताएं परेशान कर सकती हैं। शिक्षा में मन नहीं लगेगा। किसी से प्रेम करते हैं, तो आज चुनौती का सामना करना पड़ेगा। दांपत्य जीवन बढ़िया रहेगा। ऑफिस में किसी से झगड़ा हो सकता है। इसलिए अपने काम से काम रखें। तभी ठीक से काम कर पाएंगे।


कन्या : आज का दिन मध्यम फलदायक रहेगा। जीवन साथी को खुश रखने की पूरी कोशिश करेंगे। कारोबार में उन्नति का दिन है। कई योजनाएं सफल होने से आपको खुशी होगी। परिवार वालों का स्वास्थ्य परेशान करेगा। प्रेम जीवन में अच्छे नतीजे मिल सकते हैं। आपका प्रिय प्यार भरी बातों से आपके दिल को खुश कर देगा।


तुला : आज का दिन काम के लिए अनुकूल है। खर्चों को कंट्रोल करें, नहीं तो मुसीबत में पड़ सकते हैं। सेहत पर ध्यान देना जरूरी है। भोजन में अधिक मसालों का प्रयोग करने से स्वास्थ्य खराब हो सकता है। माँ से सुख मिलेगा। परिवार में खुशी रहेगी। परिवार के छोटों को दिक्कत हो सकती है। यात्रा के लिए दिन अच्छा नहीं है। प्रेम जीवन में खुशी और दांपत्य जीवन सामान्य रहेगा। काम के लिए दिन अच्छा है। वरिष्ठों से अच्छी सलाह मिलेगी।


वृश्चिक : आज का दिन मध्यम रहेगा। प्रेम जीवन में सफलता मिलेगी। जीवनसाथी की बात मान कर कोई खास काम को कर सकते हैं। वाहन सावधानी से चलाएं। परिवार में किसी बात को लेकर माहौल गर्म होगा। खाने पीने पर ध्यान दें। आनंददायक यात्रा हो सकती है। काम के मामले में दिन सामान्य है। पुराने कार्यों को करने पर जोर दे सकते हैं। सेहत में सुधार होगा।


धनु : आज का दिन मध्यम रहेगा। काम के सिलसिले में परिवार वालों के सहयोग से काम बनेंगे। दांपत्य जीवन बढ़िया रहेगा, जीवनसाथी से दूरी कम होगी। खर्चे होंगे। स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। प्रेम करते हैं, तो उन्हें मन की बातें जरूर बताएं। आज पकवान मिल सकते हैं। बाहर जाकर खाने का प्लान भी बना सकते हैं। आज किसी पुराने दोस्त से मिलने का मौका मिलेगा।


मकर : आज का दिन मध्यम रहेगा। जमीन जायदाद से जुड़े मामलों में सफलता मिलेगी। कारोबार के सिलसिले में की गई यात्रा सफलता देगी। खर्चे अधिक होंगे। आपकी आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। मन में एक साथ कई काम होंगे, जिन्हें पूरा करना जरूरी होगा। अाय में वृद्धि होगी। प्रेम जीवन में तनाव रहेगा। परिवार वालों का सहयोग रहेगा। यात्रा करने के लिए दिन अनुकूल है।


कुंभ : आज का दिन अनुकूल रहेगा। परिवार में खुशियां आएंगी। काम में अच्छे नतीजे हासिल होंगे। खर्चे बने रहेंगे, लेकिन आय बढ़ाने का कोई जरिया मिल सकता है। प्रेम जीवन के लिए दिन बढ़िया रहेगा। जीवन साथी से किसी बात को लेकर अनबन हो सकती है, जिससे घर का माहौल बिगड़ सकता है, इसलिए सावधानी बरतें।


मीन : आज का दिन अच्छा रहेगा। मानसिक तनाव से मुक्ति मिलेगी। हर काम को बेहतर ढंग से करेंगे। दांपत्य जीवन में जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। खुशियों में बढ़ोतरी होगी। कोई पुरानी इच्छा पूरी हो सकती है। परिवार का माहौल खुशनुमा रहेगा। प्रेम जीवन में भी खुशी भरे पल आएंगे। परिवार के किसी बुजुर्ग को स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। आप किसी प्रॉपर्टी के संबंध में नया सौदा कर सकते हैं।


Post a Comment

0 Comments