Uattar Pradesh ; UP Board Exam : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षा रद, जुलाई के दूसरे सप्ताह में 12वीं की परीक्षा


उत्तर प्रदेश सरकार ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर से पैदा हुए हालात को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड की 10वीं की परीक्षा निरस्त कर दी हैं। जुलाई के दूसरे सप्ताह में 12वीं की परीक्षा हो सकती हैं। यह जानकारी उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने दी है।



प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, लखनऊ


उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी बोर्ड की हाई स्कूल की परीक्षाएं रद कर दी हैं। इस साल दसवीं कक्षा के छात्रों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया जाएगा। दसवीं की परीक्षाओं को रद करने का फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिया है। 


कोरोना वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर के कारण हाई स्कूल यानी दसवीं की परीक्षाएं रद किए जाने के कयास पहले से लगाए जा रहे थे। इस पर आखिरी फैसला मुख्यमंत्री योगी को ही करना था। उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने शनिवार को दसवीं बोड परीक्षा रद करने का ऐलान किया। वहीं, 12वीं की परीक्षा जुलाई के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जाएगी। इस संबंध में जल्द ही विस्तृत समय सारिणी जारी की जाएगी।


उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि इंटरमीडिएट की परीक्षा पूर्व की भांति 15 कार्य दिवसों में कराई जाएंगी। छात्रों के हित में प्रदेश सरकार ने प्रश्नपत्र की अवधि को घटाकर डेढ़ घंटे करने का निर्णय लिया है। छात्रों को प्रश्नपत्र में दिए गए 10 प्रश्नों में से किन्ही 3 प्रश्नों का ही उत्तर देने की स्वतंत्रता होगी। बच्चों के मध्य सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए केंद्रों की संख्या में वृद्धि की गई है। कक्षा 10 के बच्चों की कक्षा 11 में प्रोन्नति के विस्तृत दिशा निर्देश उत्तर प्रदेश मध्यमिक शिक्षा परिषद को बनाने के निर्देश दिए गए हैं। 



उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा विभाग, उत्तर प्रदेश निरंतर छात्र हित में कार्य कर रहा है। उत्तर प्रदेश देश का प्रथम राज्य है जिसने गत वर्ष 2020 के जुलाई माह में ही कोरोना महामारी के दृष्टिगत पठन-पाठन में हो रहे व्यवधान के दृष्टिगत, पाठ्यक्रम में 30 फीसदी की कमी कर दी थी।


माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा पिछले वर्ष के लॉकडाउन से ही ऑनलाइन पठन-पाठन के साथ-साथ दूरदर्शन, स्वयं प्रभा चैनल, ई-विद्या चैनल, वर्चुअल स्कूल तथा यूट्यूब पर माध्यमिक शिक्षा परिषद के ई-ज्ञान गंगा चैनल के माध्यम से बच्चों का पठन-पाठन सुनिश्चित किया गया है। साथ ही 29 लाख से अधिक व्हाट्सएप ग्रुप प्रधानाचार्य, शिक्षक एवं छात्रों के बनाए गए तथा पठन-पाठन की नियमित अनुश्रवण व्यवस्था बनाई गई है। बता दें कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा हेतु इस वर्ष 26,10,316 छात्रों का पंजीकरण हुआ है।


कक्षा 6, 7 व 8 के छात्रों को प्रोन्नति


उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित विद्यालयों में कक्षा 6, 7 व 8 के छात्रों को अगली कक्षा में प्रोन्नति देने का निर्णय पूर्व में जारी किया जा चुका है। अब यह निर्णय लिया गया है कि यदि किसी बोर्ड विशेष का अन्यथा आदेश न हो तो प्रदेश के समस्त बोर्ड के समस्त विद्यालयों की कक्षा 6, 7 व 8 के छात्रों को अगली कक्षा में सामान्य प्रोन्नति दी जाए। यदि बोर्ड विशेष का कोई इस संबंध में आदेश होगा तो वह लागू होगा अन्यथा कक्षा 6, 7, 8, 9 एवं 11 की उक्त वर्णित व्यवस्था, प्रदेश के समस्त बोर्ड के समस्त विद्यालयों पर लागू होगी। आदेशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।



वार्षिक परीक्षाफल के आधार पर होंगे प्रमोट


कक्षा 9 एवं 11 के छात्रों को उनकी वार्षिक परीक्षा के परीक्षाफल के आधार पर अगली कक्षा में प्रोन्नति दी जाए। यदि किसी विद्यालय में वार्षिक परीक्षा अभी तक संपादित नहीं हो पाई है तो वह छात्र के वर्ष भर किए गए आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा में प्रोन्नति देंगे। यदि कोई आंतरिक मूल्यांकन उपलब्ध नहीं है तो सामान्य रूप से छात्र को प्रोन्नति दी जाए।


आएं सुने इस वीडियो में क्या बोले उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा :-



Post a Comment

0 Comments