Covid-19 : चिंपैंजी के एडिनाे वायरस से बनी है कोविशिल्ड वैक्सीन

  • कोविशिल्ड वैक्सीन में लाइव कोरोना वायरस का स्पाइक प्रोटीन का कुछ हिस्सा लेकर डाला गया

प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, कानपुर



कोरोना वैक्सीनेशन की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। शनिवार सुबह 10 बजे से जिले के छह केंद्रों पर वैक्सीन लगाने की शुरूआत हो जाएगी। इसमें चार सेंटर शहरी क्षेत्र और दो सेंटर ग्रामीण क्षेत्र में बनाए गए हैं। कोरोना को मात देने वाली कोविशिल्ड वैक्सीन सभी जगह पहुंच चुकी है। इस लाइव एटिनियूवेटिड वैक्सीन को लेकर सामान्य वर्ग के अलावा चिकित्सक वर्ग में भी खास चर्चा है। इस वैक्सीन को चिंपैंजी के एडिनो वायरस को जैनिटिकली इंजीनियरड करके कोरोना के स्पाइक प्रोटीन को डालकर तैयार किया जाता है। एडिनो वायरस मानव के लिए नुकसानदायक नहीं होता है, बल्कि यह कोरोना संक्रमण से बचाने में मददगार होगा। 


जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलॉजी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. विकास मिश्रा ने बताया कि लाइव वैक्सीन दो तरह की होती है। इसमें बीमारी का लाइव एटिनियूवेटिड वायरस शरीर में भेजा जाता है, जबकि दूसरे में लाइव वायरस किसी और का होता है और जिस बीमारी से बचाना होता है उसके वायरस का एक पार्ट इस्तेमाल किया जाता है।



कोविशिल्ड वैक्सीन चिंपैंजी के एडिनो वायरस लाइव एटिनियूवेटिड वायरस से लेकर बनाई गई है, इसमें कोरोना का स्पाइक प्रोटीन डाला गया है। चिंपैंजी का एडिनो वायरस अन्य वैक्सीन में भी प्रयोग होता है, इसलिए इससे घबराने की जरूरत नहीं है। 


कोवैक्सीन की रिसर्च में शामिल लोग घबराएं नहीं : डॉ. मिश्रा


डॉ. विकास मिश्रा ने बताया कि कोवैक्सीन की रिसर्च में शामिल कई लोगों को यह लग रहा है कि कोविशिल्ड आ गई है, वह इसे लगवा सकते हैं। उन्हें किसी बात से घबराने की बजाय अपनी वैक्सीन के एंटी बॉडी बनने का इंतजार करना चाहिए। 


वैक्सीन की पहली डोज लगने के 42 दिन बाद जांच में यदि व्यक्ति के शरीर में एंटीबॉडी नहीं मिलती तो माना जाएगा कि उसे प्लेसिबो लगी है। इस पर कंपनी उसे कोवैक्सीन की डोज उपलब्ध करवाएगी। दो अलग-अलग वैक्सीन लगवाने का किसी को अतिरिक्त लाभ नहीं मिलेगा। 


कोविशिल्ड आई शहर


कोविशिल्ड वैक्सीन की पहली खेप सीएमओ कार्यालय पहुंच गई है। सीएमओ डाॅ. अनिल मिश्रा ने बताया कि कानपुर में 2170 वॉयल मिले हैं। जो जिले के 21 हजार सात सौ हेल्थ वर्कर को लगाई जाएगी। 

Post a Comment

0 Comments