भांजी से छेड़खानी का विरोध करने में पत्रकार की हत्या

  • बाइक रोककर रास्ते में बदमाशों ने मारी गोली, इलाज के दौरान तोड़ा दम
  • मुख्य आरोपी गिरफ्तारी नहीं होने से नाराज परिजनों का शव लेने से इंकार
  • शिकायत पर कार्रवाई नहीं करने पर प्रताप विहार चौकी प्रभारी निलंबित

घटनास्थल की सीसीटीवी फुटेज विक्रम की फाइल फाेटो।
प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, गाजियाबाद

बेटियों के साथ बाइक पर घूमने जा रहे पत्रकार विक्रम जोशी की सोमवार शाम पांच-छह बदमाशों ने रास्ते में रोककर गोली मार दी। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। पत्रकार ने भांजी से छेड़छाड़ को लेकर कुछ लोगों के खिलाफ कुछ दिन पहले विजय नगर थाने में तहरीर दी थी। पुलिस की हीलाहवाली से बदमाशों के हौसले बुलंद हो गए। उधर, पत्रकार की हत्या पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ डीजीपी से नाराजगी जताई। इस पर डीजीपी ने गाजियाबाद पुलिस को फटकार लगाई। आनन फानन प्रताप विहार चौकी प्रभारी का निलंबित कर जांच सीओ प्रथम को सौंपी गई है।


विक्रम बाइक से सोमवार शाम को बाइक से अपनी दोनों बेटियों को बैठाकर कहीं जा रहे थे। रास्ते में पांच-छह बदमाशों ने उन्हें रोक लिया। पहले उनसे मारपीट करने लगे। उसके बाद गोली मारकर भाग निकले। उनके बेटी, जाने-जाने वालों से मदद की गुहार लगाती रही। पूरी वारदात पास लगे क्लोज सर्किट टीवी (सीसीटीवी) कैमरे में कैद है। उधर, घायल विक्रम ने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। मुख्य आरोपी की गिरफ्तार नहीं होने से नाराज परिजनों ने शव लेने से इंकार कर दिया। उनका कहना था कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा, शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। इससे पुलिस-प्रशासन में खलबली मच गई। मेरठ रेंज के आईजी प्रवीण कुमार भी हॉस्पिटल पहुंचे। पीड़ित परिवार से मुलाकात कर हर संभव कार्रवाई का आश्वासन दिया। स्वजनों ने विजय नगर थाना एवं प्रताप विहार चौकी पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) गाजियाबाद को तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए। प्रथम दृष्टया लापरवाही बरतने पर प्रताप विहार के चौकी इंचार्ज सब इंस्पेक्टर राघवेंद्र को निलंबित कर दिया गया। एसएसपी ने क्षेत्राधिकारी (सीओ) प्रथम को इसकी जांच सौंपी है।


नौ आरोपियों की गिरफ्तारी


लापरवाह पुलिसकर्मियों के खिलाफ विभागीय जांच भी शुरू है। स्वजनों ने तीन नामजन व अन्य अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। एसएसपी ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छह टीमें लगाई हैं। अब तक दो आरोपी रवि एवं छोटू को समेत नौ लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पूछताछ में पता चला है कि मुख्य आरोपी रवि ने बताया गया कि पत्रकार के ऊपर हमला कराया गया था।


आर्थिक मदद के लिए पत्रकारों का धरना

पत्रकार विक्रम जोशी की मौत से पत्रकारों में नाराजगी है। पुलिस की हीलावाहली पर कार्रवाई, आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई एवं पत्रकार के परिवार को आर्थिक मदद की मांग को लेकर गाजियाबाद में पत्रकारों ने धरना दिया। डीएम, एसएसपी एवं मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी भेजा है।

Post a Comment

0 Comments