Kanpur's Manish Gupta Murder Case : मुख्यमंत्री आगमन से पहले कराया मनीष के शव का अंतिम संस्कार

  • गोरखपुर के रामगढ़ताल में प्रापर्टी डीलर की मौत का मामला
  • भारी पुलिस बल की मौजूदगी में भैरवघाट पर हुआ अंतिम संस्कार



प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, कानपुर


गोरखपुर के रामगढ़ताल में प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता की मौत के मामले में शव उठाने को लेकर पुलिस को बुधवार दस घण्टे से अधिक मान मनौवल और मशक्कत करनी पड़ी थी। गुरुवार तड़के 4: 30 बजे पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में शव अंतिम संस्कार के लिए उठाया गया। फोर्स की मौजूदगी में भैरवघाट पर अंतिम संस्कार हुआ।

मनीष का शव बुधवार सुबह 9:30 बजे घर पहुंचा था। शव के अंतिम संस्कार की तैयारियां चल रही थी की तभी राजनैतिक संगठनों के लोगों ने पहुंचकर परिवार के सदस्यों से बातचीत की थी। जिसके बाद स्वजन ने अंतिम संस्कार की तैयारियां रोक दी थीं। दिनभर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मान मनौवल करते रहे लेकिन बात नहीं बनी थी। जिलाधिकारी विशाख जी अय्यर और पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने परिवार के सदस्यों से बातचीत करके मुख्यमंत्री से मुलाकात कराने का आश्वासन दिया था। 


देर रात मनीष के नवाबगंज निवासी साले सौरभ ने परिवार से बातचीत करने के बाद तड़के 4: 30 बजे शव को अंतिम संस्कार के लिए उठाए जाने की जानकारी दी थी। देर रात पुलिस अधिकारी भी वहां से चले गए थे। सिर्फ आरएएफ और जनता नगर चौकी फोर्स तैनात था। तड़के 3: 30 बजे एसीपी नजीराबाद संतोष सिंह, एसीपी गोविंद नगर विकास कुमार पांडेय मनीष के घर पहुंचे।


भोर 3: 45 बजे डीसीपी साउथ रवीना त्यागी भी मृतक मनीष गुप्ता के घर पहुंचीं। डीसीपी साउथ ने पिंक चौकी पुलिस के साथ मनीष की पत्नी मीनाक्षी उर्फ कोमल, बहन डाली और शिवानी समेत परिवार की अन्य महिलाओं को ढांढस बंधाया। कुछ देर ही देर में शव उठाने की तैयारियां शुरू हो गई। 


भोर 4: 30 बजे शव उठाया गया। गली के बाहर तक सपा नेताओं समेत परिवार के लोगों ने कंधा देकर शव को वाहन तक पहुंचाया, उसके बाद शव वाहन भैरवघाट के लिए रवाना हुआ।


चाचा समेत पांच ने दी मुखाग्नि


भैरवघाट पर डीसीपी साउथ रवीना त्यागी, एडीएम सिटी अतुल कुमार, एसडीएम और भारी पुलिस बल की मौजूदगी में मनीष का अंतिम संस्कार कराया गया। मुखाग्नि उसके चाचा बृजकिशोर गुप्ता, चचेरे भाई शिवशंकर गुप्ता, नकुल गुप्ता, विशाल गुप्ता और अंकित गुप्ता ने दी।


घर पर तैनात रहा फोर्स


मुख्यमंत्री आगमन को लेकर पुलिस अलर्ट मोड पर नजर आयी। शव उठने के बाद भी घर पर आरआरएफ और बर्रा, नौबस्ता थाने का फोर्स तैनात रहा।

Post a Comment

0 Comments