Kanpur Metro Rail : मेट्रो ने कोरोना से उबरने को बदली रणनीति, बढ़ाए काम के घंटे


प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, कानपुर


समय की पटरी पर सरपट मेट्रो रेल परियोजना को दौड़ाने के लिए कोरोना काल के लॉकडाउन से उबरने के लिए उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (यूपीएमआरसी) ने कानपुर मेट्रो रेल परियोजना की रणनीति ही बदल दी। अनलॉक में दोबारा कार्य शुरू करने की अनुमति मिली तो तय समय यानी15 नवंबर 2021 की तय समय सीमा पर मेट्रो ट्रेन को ट्रैक पर दौड़ाने के लक्ष्य को लेकर काम शुरू कर दिया। मेट्रो के इंजीनियर एवं कर्मचारियों ने अपने काम के घंटे बढ़ा दिए। इस पर यूपीएमआरसी ने भी उनके लिए अतिरिक्त सुविधाएं बढ़ा दीं।



कानपुर मेट्रो परियोजना के निर्माण कार्य का शुभारंभ 15 नवंबर 2019 को हुआ था। पहले चरण में आइआइटी से मोतीझील के बीच नौ स्टेशनों के बीच मेट्रो ट्रेन को ट्रैक पर दौड़ाने के लिए 15 नवंबर 2021 का लक्ष्य रखा गया है। उस लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए एडवांस तकनीक का इस्तेमाल करते हुए तेजी से कार्य चल रहा था। इस बीच, कोरोना महामारी के चलते 24 मार्च 2020 काे जनता कर्फ्यू और फिर लॉकडाउन की वजह से दो माह तक निर्माण कार्य पूरी तरह ठप रहा। निर्माण कार्य में लगे कामगार भी अपने-अपने घर चले गए।


अनलॉक के बाद दोबारा निर्माण कार्य शुरू करने की अनुमति मिली। उसके बाद यूपीएमआरसी ने कार्य करने की अपनी रणनीति ही बदल दी। एलएमआरसी के जनसंपर्क अधिकारी के मुताबिक निर्माण कार्य में लगे कामगारों के रहने-खाने से लेकर इलाज का बंदोबस्त किया गया। हर सुविधाएं मुहैया कराने से सभी कामगार आ गए।


कास्टिंग यार्ड व डिपो में कार्य


यूपीएमआरसी ने रणनीति बदलते हुए कामगारों से लेकर इंजीनियरों के काम के घंटे बढ़ा दिए गए। पहले जहां सभी आठ घंटे काम करते थे। उन्हें जब सभी तरह की सुविधाएं डिपो में मुहैया कराई गई तो पूरी मेहनत और लगन के साथ 10-12 घंटे तक काम करने लगे। समय से पहले सभी यू-गार्डर एवं टी-गार्डर की ढलाई पूरी की गई।


सड़क पर 15 मई से कार्य


नौ स्टेशन के बीच 506 पिलर बनने हैं, उसमें से आधे से अधिक बन चुके हैं। अनुमति मिलने के बाद सड़क पर 15 मई से कार्य शुरू किया गया। कास्टिंग यार्ड में तैयार यू-गार्डर, टी-गार्डर एवं पियर कैप लाकर रखे जाने लगे। इस वजह से काम में तेजी आई।


सभी स्टेशनों में एक साथ कार्य


नई रणनीति के तहत सभी मेट्रो स्टेशनों पर कार्य शुरू करा दिया गया। 25-25 फीसद काम पूरा कर आगे बढ़ना शुरू कर दिया गया। इससे सभी नौ स्टेशन पर कार्य शुरू हो गया और सभी ठेकेदार को काम मिल गया, जिससे काम में तेजी आ गई।


आइआइटी में चल रही फिनिशिंग


आइआइटी मेट्रो स्टेशन लगभग तैयार हो गया है। उसमें फिनिशिंग का कार्य चल रहा है। वहीं, कल्याणपुर मेट्रो स्टेशन एवं विश्वविद्यालय के मेट्रो स्टेशन में पहला कॉनकोर्स के लिए डबल टी-गार्डर रखे जा रहे हैं। गुरुदेव तक पिलर का निर्माण हो चुका है।


रावतपुर से मोतीझील तक कार्य


रावतपुर चौराहे से लेकर मोतीझील तक निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज एवं हैलट अस्पताल परिसर में पिलर बनाने का कार्य शुरू हो गया है। मेट्रो के अधिकारी तय समय से पहले फेज का कार्य पूर्ण होने का दावा कर रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments