International News : अमेरिका में मतदान जारी, डेमोक्रेट नेताओं को जीत का भरोसा



अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव की वोटिंग चल रही है। दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति यानी अमेरिकी सत्ता किसके पास होगी, इसका फैसला आज अमेरिकी नागरिक मतदान के जरिए कर रहे हैं।


कोरोना वायरस महामारी के बीच हो रहे मतदान के जरिए संयुक्त राज्य अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति का चयन होगा।


चुनावी मैदान में रिपब्लिकन पार्टी की ओर से वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार और पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन जोरदार चुनौती मिल रही है।


भारतीय समय दोपहर 3.30 बजे (अमेरिकी समय सुबह छह बजे) से वोटिंग शुरू हुई, जो भारतीय समय सुबह 6.30 बजे (अमेरिकी समय रात नौ बजे) तक चलेगी।  


राष्ट्रपति ट्रंप का दावा हम अच्छी स्थिति में


वर्जीनिया में अमेरिकी राष्ट्रपति एवं रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोलाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम फ्लोरिडा में अच्छा कर रहे हैं, एरिजोना, टेक्सास में भी हम अच्छी स्थिति में हैं। उनका कहना है कि मुझे लगता है कि यह रात मेरे लिए अच्छी साबित होगी। उन्होंने दावा किया कि हम फिर से चार साल के लिए चुने जाएंगे।


जीत के लिए स्विंग स्टेट को जीतना जरूरी


राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए स्विंग स्टेट को जीतना जरूरी होता है। यही राज्य उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करता है। स्विंग स्टेट उन राज्यों को कहा जाता है जिनके मतदाताओं का रुझान बदलता रहता है। वह कभी डेमोक्रैट उम्मीदवार तो कभी रिपब्लिकन को चुनते हैं।



10 करोड़ मतदाता पहले डाल चुके वोट


डोनाल्ड ट्रंप कोशिश कर रहे हैं कि वो दोबारा चुनाव जीत जाएं। जॉर्ज बुश का इतिहास ना दोहराएं जो कि वर्ष 1992 के चुनाव में दोबारा राष्ट्रपति नहीं बन पाए थे। उन्हें जो बिडेन उन्हें कड़ी टक्कर दे रहे हैं। पहले ही 10 करोड़ मतदाता अपने वोट डाल चुके हैं। 

 

सट्टा बाजार में जो बिडेन पर दांव


अमेरिकी चुनाव को लेकर सट्टा बाजार भी सक्रिय है। पता चल रहा है कि क अरब डॉलर का सट्टा लग चुका है। जानकारों का कहना है कि इस राशि में और बढ़ोतरी हो सकती है।


सट्टेबाज ट्रंप के मुकाबले जो बिडेन पर भरोसा जता रहे हैं। ब्रिटेन की एक ऑनलाइन सट्टेबाजी वेबसाइट के अनुसार बिडेन की जीत के 65 फीसदी और ट्रंप के लिए आंकड़ा महज 35 फीसदी है।


डेमोक्रेट नेताओं को जीत का भरोसा


सदन की स्पीकर नैंसी पेलोसी और डेमोक्रेटिक कांग्रेस कैंपेन कमेटी की चेयरवूमेन चेरी बस्टोस ने आज के चुनाव में बहुमत पाने का भरोसा जताया। चेरी बस्टोस ने कहा कि हमने सफलता का आधार तैयार किया है। मैं मानती हूं कि हम बहुमत प्राप्त करेंगे। मैं मानती हूं कि हम बहुमत को आगे भी बढ़ाएंगे। हालांकि, उन्होंने इस सवाल का जवाब नहीं दिया कि उन्हें कितनी सीटें जीतने की उम्मीद है। वहीं, पेलोसी ने कहा कि इस चुनाव में हमारे राष्ट्र का भविष्य और आत्मा दांव पर लगी हुई है।


विस्कॉन्सिन के मिल्वॉकी में बिना दिक्कत हो रहे चुनाव


विस्कॉन्सिन के मिल्वॉकी शहर में अधिकारियों का कहना है कि चुनावी गतिविधि में किसी प्रकार की समस्या सामने नहीं आई है। यहां के मेयर टॉम बैरट ने कहा कि हम अच्छी शुरुआत की ओर हैं। शहर के सभी 173 मतदान स्थल सफलतापूर्वक खुले और किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा।


व्हाइट हाउस नाइट पार्टी में केवल 250 लोग


मंगलवार की रा व्हाइट हाउस नाइट पार्टी में शामिल होने वाले लोगों की संख्या घटाकर 250 कर दी गई।


सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार सभी मेहमानों की कोविड-19 की रैपिड जांच की जाएगी। सभी को एक टेस्टिंग ब्रेसलेट दिया जाएगा।


चुनाव के दिन कभी पूरी नहीं होती मतगणना


पेन्सिल्वेनिया के राज्य सचिव कैथी वूकवार ने मतदाताओं को धैर्य का परिचय देने की अपील की है।उन्होंने कहा कि चुनाव के दिन सभी मतों की गणना पूरी नहीं होती है। कैथी ने कहा कि सिर्फ अहम हिस्से के चुनाव के परिणाम घोषित कर सकते हैं। इसलिए सभी धैर्य बनाए रहें।


अपने बचपन के घर पहुंचे जो बिडेन


चुनाव के दिन डेमोक्रेट प्रत्याशी जो बिडेन पेन्सिल्वेनिया के स्क्रैंटन स्थित अपने बचपन के घर पहुंचे। यहां उन्होंने घर की एक दीवार पर हस्ताक्षर किए। उन्होंने लिखा, 'ईश्वर की कृपा से इस घर से व्हाइट हाउस तक।' वह यहां अपनी नवासियों के साथ आए थे।


जॉर्जिया में नहीं आए दो लाख से डाक मतपत्र


जॉर्जिया के राज्य सचिव ब्रैट रैफेन्सपर्जर ने बताया कि मंगलवार सुबह तक दो लाख 24 हजार 773 डाक मतपत्र ऐसे रहे जिन्हें मतदाताओं ने अभी तक वापस नहीं किया है। उनके प्रेस सचिव ने बताया कि राज्य में तेजी से मतदान हो रहा है।


नेब्रास्का में वापस आए 91 फीसदी मतपत्र


नेब्रास्का में अभी तक पांच लाख 10 हजार 76 अनुपस्थित मतपत्र (बेलट) वापस आ चुके हैं। नेब्रास्का के राज्य सचिव कार्यालय की ओर से यह जानकारी दी गई। मतपत्रों के वापस आने की यह दर 91 फीसदी है। 


मेलानिया ट्रंप ने डाला वोट


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पत्नी और अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। मेलानिया ट्रंप पिछले तीन दिनों में ट्रंप के चुनावी अभियान में काफी सक्रिय रही थीं। 


25 लाख भारतीय मूल के लोग करेंगे मतदान


अमेरिका में 40 लाख भारतीय मूल के लोग हैं जिनमें से 25 लाख मतदान कर सकेंगे। 13 लाख से अधिक भारतीय-अमेरिकी टेक्सास, मिशिगन, फ्लोरिडा और पेन्सिल्वेनिया जैसे अहम राज्यों के मतदाता हैं।


बिडेन के लिए भारी साबित होगी आज की रात


ट्रंप के चुनावी कैंपेन के वरिष्ठ सलाहकार केली मैकनानी ने कहा है कि ट्रंप के दोबारा जीतने की पूरी संभावना हैं। बिडेन के कैंपेन मैनेजर के बयान पर पलट वार किया है। केली ने कहा कि आज की रात बिडेन की कैंपेन के लिए भारी साबित होने वाली है।


मतदान केंद्रों के बाहर लंबी कतारें


अमेरिका में पिछले कुछ दशकों में सबसे अधिक आरोप-प्रत्यारोप वाले राष्ट्रपति चुनावों में से एक के लिए मंगलवार को बड़ी संख्या में मतदाता वोटिंग के लिए निकले। समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार कई मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की कतारें देखी गईं।



अमेरिकी चुनाव में क्या है 270 का गणित


अमेरिका के चुनाव में 270 का आंकड़ा खासा महत्व रखता है। निर्वाचक मंडल की यह संख्या तय करती है कि चार साल के लिए व्हाइट हाउस में किसे प्रवेश मिलेगा।


अमेरिका के 50 राज्यों में 538 निर्वाचक मंडल हैं, बहुमत के लिए निर्वाचक मंडल के कम से कम 270 मतों की जरूरत होती है। निर्वाचक मंडल के महत्व का अंदाजा लगा सकते हैं कि वर्ष 2016 के चुनाव में हिलेरी क्लिंटन को ट्रंप से 29 लाख अधिक वोट मिले। फिर भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा।


फ्लोरिडा में 90 लाख लोगों ने किया मतदान


फ्लोरिडा में मंगलवार सुबह तक 90 लाख 69 हजार 761 लोग मतदान कर चुके थे। यह साल 2016 में हुए राष्ट्रपति चुनाव में हुए कुल मतदान का 95 फीसदी है। 2016 में यहां 9.6 मिलियन वोट पड़े थे।


Post a Comment

0 Comments