Up Update : उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को झटका, पूर्व सांसद अन्नू टंडन का इस्तीफा

प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, लखनऊ



उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की जड़ मजबूत करने के अभियान में पार्टी को जोर का झटका लगा है। उन्नाव की पूर्व सांसद अन्नू टंडन के पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। अपना इस्तीफा ट्वीट करते हुए उन्होंने प्रदेश नेतृत्व से तालमेल और सहयोग नहीं मिलने का आरोप लगाया है। अन्नू टंडन के साथ ही कांग्रेस प्रदेश महासचिव बनाए गए अंकित परिहार ने भी इस्तीफा दे दिया है। साथ ही उन्नाव से 50 कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ी है।


उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। पूर्व सांसद तथा पार्टी की वरिष्ठ नेता अन्नू टंडन ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। प्रदेश में होने वाले उपचुनाव की जोरआजमाइश के बीच यह कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है। उन्नाव से वर्ष 2009 में सांसद का चुनाव जीतने वाली अन्नू टंडन ने कांग्रेस अपना इस्तीफा दे दिया है। उन्नाव की बांगरमऊ सीट पर भी उपचुनाव हो रहा है। ऐसे में उपचुनाव से ठीक पहले अन्नू के कांग्रेस छोड़ने पर कई सवाल खड़े हो गए हैं।


अपना इस्तीफा ट्वीट करते हुए उन्होंने प्रदेश नेतृत्व से कोई तालमेल न होने और सहयोग न मिलने के आरोप लगाए हैं। अन्नू टंडन ने कहा है कि पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा से बातचीत से भी कोई हल नहीं निकल सका। अन्नू टंडन का कहना है सोनिया गांधी और राहुल गांधी से सहयोग मिलता रहा। प्रदेश नेतृत्व से सहयोग नहीं मिल रहा था। उनकी कार्यशैली भी ठीक नहीं थी। उन्होंने प्रदेश नेतृत्व से कोई तालमेल न होने और सहयोग न मिलने के आरोप लगाए हैं। कांग्रेस में रहते हुए पंद्रह सालों मे मिले सहयोग के लिए सोनिया गांधी का आभार जताया है


उन्होंने कहा कि आज तो मैंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से अपना इस्तीफा दे दिया है। इस संबंध में मैंने अपना बयान भी साझा किया है। अब मुझे मेरे सभी शुभचिंतकों का प्यार और आशीर्वाद चाहिए। उन्होंने बताया कि पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष को इस्तीफा भेज दिया है। उन्होंने पार्टी की नीतियों पर नाराजगी भी जताई। सपा में जाने की चर्चा पर उन्होंने कहा कि अभी कुछ तय नहीं है। सोच समझ कर फैसला लूंगी। 2014 के चुनाव में अन्नू टंडन चौथे और 2019 के चुनाव में तीसरे नम्बर पर रहीं थीं।


Post a Comment

0 Comments