Khas Khabar : पलामू : दर्द से कराहती शर्मिली को रेलवे की राहत

  • युवती के इलाज के लिए डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर रुकी राजधानी स्पेशल

प्रारब्ध न्यूज डेस्क, पलामू 


पिछले गुरुवार को जहांटोरी जक्शन में टाना भगतों के आंदोलन के कारण नई दिल्ली-रांची स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस को डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर करीब सात घंटों तक रोका गया था। वहीं, ठीक एक सप्ताह बाद रांची से नई दिल्ली जा रही स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस को डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर 5 मिनट तक रोक कर दर्द से कराह रही 18 वर्षीय शर्मिली को राहत प्रदान की गई। 


बीएसएफ के एक अधिकारी साई एम कामराज की 18 वर्षीय पुत्री दुर्घटना में घायल हो गई थी, जिससे उसकी रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोट आई थी। इस वजह से वह चलने फिरने में असमर्थ हो गई थी। उसे बेहतर इलाज के लिए परिवारीजन दिल्ली लेकर आ रहे थे। इस बीच, गुरुवार रात 10 बजे उसे दर्द का इंजेक्शन देना था। ट्रेन में दो चिकित्सक भी सफर कर रहे थे। फिर भी कोरोना के संक्रमण के खतरे को देखते हुए चिकित्सक भी इंजेक्शन लगाने के लिए तैयार नहीं हुए। बीएसएफ के अधिकारी अपनी पुत्री का दर्द सहन नहीं पा रहा था। परिवारीजनों ने ट्वीट कर रेल मंत्रालय से मदद मांगी। 


ट्वीट के बाद मंत्रालय के निर्देश के बाद पूरा रेल महकमा सक्रिय हो गया। धनबाद रेल मंडल के सीनियर डीसीएम अखिलेश कुमार पांडे व सीनियर डीओएम पंकज कुमार ने डालटनगंज रेलवे स्टेशन के अधिकारियों से संपर्क कर यात्री को तुरंत सहायता पहुँचाने का निर्देश दिया। तब तक ट्रेन बरवाडीह स्टेशन से गुजर रही थी। 


यातायात निरीक्षक एके सिन्हा, स्टेशन प्रबंधक अनिल कुमार तिवारी व सीटीआई विकास कुमार स्टेशन पहुचे और जरूरी इंतजाम कराए। ट्रेन के रात 10. 30 बजे डालटनगंज स्टेशन पर रुकते ही स्थानीय मेडिकल कर्मचारी ओम प्रकाश मेहता ने इंजेक्शन लगाया। 


इंजेक्शन लगने के कुछ देर बात ही युवती को आराम मिल गया। यह परिवार राजधानी एक्सप्रेस के ए 5 के 19 व 20 नंबर बर्थ पर सफर कर रहे थे। शर्मिली के पिता ने तत्काल राहत प्रदान किए जाने पर रेल मंत्रालय से लेकर सभी रेल अधिकारियों के प्रति आभार जताया है।

Post a Comment

0 Comments