Breaking News : बादलों की वजह से भटका उप मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर

भाजपा जिलाध्यक्ष का दावा-उप मुख्यमंत्री खुद बोले-ईश्वर की कृपा से बाल-बाल बचा
  
बिधूना में आयोजित प्रबुद्ध सम्मेलन में शामिल होना था उप मुख्यमंत्री को, दौरा हुआ रद  







प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, औरैया 



जिले में बिधूना विधानसभा क्षेत्र में शुक्रवार को प्रबुद्ध सम्मेलन में शिरकत करने आ रहे उप मुख्यमंत्री डाॅ. दिनेश शर्मा का हेलीकाप्टर घने बादलों में भटक गया। औरैया भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीराम मिश्र के अनुसार उपमुख्यमंत्री ने खुद कहा कि हेलीकाप्टर दुर्घटनाग्रस्त होते बच गया। ईश्वर की कृपा से सुरक्षित हूं। 


कानपुर देहात और औरैया जिले की सीमा के बीच करीब 30 मिनट तक भटकने के बाद हेलीकाप्टर लखनऊ लौट गया है। इस जानकारी से भाजपाइयों में खलबली मच गई। इस दौरान प्रमोद गुप्ता एलएस ने मंच संभाला। 


उप मुख्यमंत्री को शुक्रवार को बिधूना रामलीला मैदान में सुबह 11:30 बजे प्रबुद्ध सम्मेलन को संबोधित करना था। इसके बाद उन्हें इटावा जाना था। रामलीला मैदान में ही हेलीपैड बनाया गया था। जहां हेलीकाप्टर उतरना था। सुबह 10:35 बजे आगमन था, लेकिन मौसम खराब होने की वजह से वह नहीं आ पाए।


जिलाध्यक्ष श्रीराम मिश्र ने बताया कि उप मुख्यमंत्री से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि कानपुर देहात और औरैया जिले के बीच बादलों में हेलीकाप्टर चक्कर काट रहा है। करीब 30 मिनट तक इधर से उधर मंडराता रहा। इस दौरान वह दुर्घटनाग्रस्त होने से भी बचा। वह बाल-बाल बचे हैं और अब हेलीकाप्टर लखनऊ लौट रहा है। 


बिधूना न आने और आगे का कार्यक्रम निरस्त होने की जानकारी पर प्रबुद्ध सम्मेलन का संचालन पूर्व विधायक प्रमोद गुप्ता एलएस ने किया। इसके बाद राज्यसभा सदस्य गीता शाक्य व जिलाध्यक्ष श्रीराम मिश्रा ने प्रत्याशी रिया शाक्य के समर्थन में हुए सम्मेलन को संबोधित किया। 


मोबाइल फोन पर संबोधन- मोदी सरकार के अभूतपूर्व निर्णय याद रखेंगी पीढ़ियां


इटावा के भरथना विधानसभा क्षेत्र के प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने मोबाइल फोन से संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जब तक देश की बागडोर मोदी के हाथों में है, तब तक देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा की तरफ कोई भी देश आंख उठाकर नहीं देख सकता है। अनुच्छेद 370 का खात्मा, अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण, तीन तलाक, लद्दाख व जम्मू कश्मीर को केंद्र शासित राज्य घोषित करने जैसे अभूतपूर्व निर्णय वे कार्य हैं, जिनको आने वाली पीढिय़ां सदैव याद रखेंगी।

Post a Comment

0 Comments