Khan Mubarak's shooter Parvez killed in encounter in Gorakhpur : गोरखपुर में खान मुबारक का शूटर परवेज मुठभेड़ में ढेर

  • अंबेडरकर नगर जिले के रहने वाले बदमाश पर घोषित था एक लाख का इनाम
  • रंगदारी वसूलने जा रहा था अंबेडकरनगर, चिउटहा पुल के पास एसटीएफ ने घेरा



प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, गोरखपुर


बहुजन समाजवादी पार्टी (बीएसपी) के नेता जुरगाम मेहंदी और उनके चालक की हत्या के आरोपी परवेज को रविवार को गोरखपुर में एसटीएफ ने मुठभेड़ के दौरान मार गिराया है। परवेज हरदोई जेल में बंद खान मुबारक की गैंग का शार्प शूटर था।गोरखपुर एसटीएफ ने रविवार की दोपहर चिलुआताल के चिउटहा पुल पर घेर लिया। टीम पर फायरिंग कर अंबेडकरनगर जिले के माफिया खान मुबारक के शूटर व एक लाख के इनामी परवेज भागने की कोशिश की, लेकिन जवाबी कार्रवाई में मारा गया। बदमाश का एक साथी फरार हो गया, जिसकी तलाश चल रही है।



एसटीएफ गोरखपुर यूनिट के प्रभारी निरीक्षक सत्यप्रकाश सिंह को सूचना मिली कि एक लाख का इनामी बदमाश परवेज महराजगंज की तरफ से शहर की तरफ आ रहा है। अंबेडरकर जिले के एक व्यापारी से उसने रंगदारी मांगी है, जिसे लेने जा रहा है। उच्चाधिकारियों को सूचना देने के बाद प्रभारी निरीक्षक चिउटहा पुल के पास पहुंच गए। बाइक से साथी के साथ आ रहे बदमाश को टीम ने रोका तो फायरिंग कर कुदरिया बंधे की तरफ भाग निकला। पुलिस टीम ने जब पीछा किया तो फायरिंग शुरू कर दी।


पुलिस की जवाबी कार्रवाई में बदमाश के सीने और पैर में गोली लग गई। बाइक चला रहा बदमाश फरार हो गया। गंभीर स्थिति में एसटीएफ की टीम परवेज को सीएचसी जंगल कौड़िया ले गई जहां से मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। मेडिकल कालेज पहुंचने पर डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।मुठभेड़ में शातिर बदमाश के ढ़ेर होने की खबर मिलते ही मौके पर एसपी नार्थ मनोज अवस्थी, सीओ कैंपियरगंज पहुंच गए।


बीएसपी नेता की हत्या के बाद से था फरार


15 अक्टूबर 2018 को जब अम्बेडकरनगर के बीएसपी नेता जुरगाम मेहंदी अपने वाहन से जिला न्यायालय पेशी पर जा रहे थे, तभी खान मुबारक गैंग के शार्प शूटर परवेज ने अपने कई साथियों समेत घेरकर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। इसमें बीएसपी नेता जुरगाम समेत उनके चालक की मौत हो गई थी। इस मामले में खान मुबारक गैंग के उसके कई साथियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया लेकिन परवेज अभी तक फरार चल रहा था। इसी फरारी के चलते उस पर एक लाख का इनाम घोषित किया गया।


नेपाल से चलाता था नेटवर्क


एसटीफ लगातार परवेज की तलाश में जुटी थी। इसी दौरान पता चला कि वह नेपाल से गोरखपुर आया है। परवेज काफी लंबे समय से नेपाल में रहकर अपना सिंडिकेट चला रहा था। बताया जा रहा है कि इस दौरान उसने कई व्यापारियों से रंगदारी भी मांगी थी। रविवार को जब एसटीएफ ने उसे घेरा तो उसने एसटीफ पर फायरिंग कर दी, इसी दौरान वह मारा गया। उसके पास से 2 पिस्टल भी बरामद हुई हैं।

Post a Comment

0 Comments