International News : सऊदी अरब ने जी-20 शिखर सम्मेलन को लेकर कही यह बात

प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो/एजेंसी, नई दिल्ली



वैश्वविक महामारी कोरोना वायरस दुनिया भर में कहर बरपा रहा है। विश्व के प्रमुख 20 अर्थव्यवस्था के समूह जी-20 का शिखर सम्मेलन होने वाला है। इसमें जी-20 प्रमुख देश शामिल होंगे। जी-20 समूह के अध्यक्ष सऊदी अरब ने आगामी शिखर सम्मेलन को लेकर कहा है कि यह अहम होगा। देश-दुनिया को नई राह दिखाने वाला होगा।


सऊदी अरब की यह टिप्पणी ऐसे समय आई है, जब कोरोना वायरस महामारी से वैश्विक अर्थव्यवस्था प्रभावित है। इस प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने में मदद के लिए जी-20 से राजकोषीय समर्थन, कर्ज में कटौती तथा अन्य मौद्रिक उपायों की अपेक्षा की जा रही है। यह सम्मेलन 21-22 नवंबर को प्रस्तावित है।


भारत में सऊदी अरब के राजदूत सऊद बिन मोहम्मद अल सती ने कहा कि यह शिखर सम्मेलन कोरोनो वायरस महामारी के प्रभावों, भविष्य की स्वास्थ्य सुरक्षा योजनाओं और वैश्विक अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के प्रयासों पर केंद्रित होगा।


अल सती ने कहा कि सऊदी अरब उस ज्ञान और अनुभव को महत्व देता है, जो भारत ने जी-20 को दिया है। इसके साथ-साथ महामारी से निपटने के लिए दुनिया भर के कई देशों में चिकित्सकीय सामान एवं सामग्री की आपूर्ति बढ़ाने के उल्लेखनीय प्रयासों को भी सऊदी अरब तवज्जो देता है।


राजदूत ने कहा कि सऊदी अरब पहले ही महामारी से जी-20 देशों तथा अन्य देशों के समक्ष आई दिक्कतों का ठोस नीतिगत समाधान निकालने के लिए दुनिया भर के कंपनियों व अध्ययन संस्थानाअें के साथ साथ विभिन्न संबंद्ध पक्षों के साथ संवाद कर रहा है। 


जी 20 समूह में दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाएं शामिल हैं। ये देश वैश्विक जीडीपी में 85 प्रतिशत और वैश्विक आबादी में दो-तिहाई हिस्से का योगदान देते हैं। वर्ष 1930 के महामंदी के बाद की सबसे खराब वैश्विक मंदी के बीच शक्तिशाली समूह का यह शिखर सम्मेलन हो रहा है। मार्च में एक आभासी शिखर सम्मेलन के बाद जी20 ने महामारी के प्रभाव को कम करने के लिए वैश्विक अर्थव्यवस्था में पांच हजार अरब डॉलर से अधिक पूंजी लगाने की घोषणा की थी।


अल सती ने कहा कि 21-22 नवंबर को होने वाली बैठक मील का पत्थर साबित होगी। जी-20 के सदस्य इस वर्ष के दौरान दूसरी बार बैठक करने जा रहे हैं। प्रमुख मंत्रिस्तरीय बैठकों और नेताओं के शिखर सम्मेलन के साथ जी 20 ने आठ संयुक्त समूहों के काम पर बहुत ध्यान दिया है।


उन्होंने कहा कि अन्य प्रमुख एजेंडा के बीच यह शिखर सम्मेलन महामारी के प्रभाव को कम करने, भविष्य की स्वास्थ्य देखभाल योजनाओं और वैश्विक अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर काम करेगा।

Post a Comment

0 Comments