Covid-19 : कोरोना की वैक्सीन अलग रखने की तैयारी

  • सीएमओ कार्यालय परिसर में पांच सौ वर्ग फीट के हाॅल का हो रहा निर्माण



प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, कानपुर


देश में कोरोना वायरस की स्वदेशी वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रयल अभी शुरू नहीं हुआ है। न ही वैक्सीन लगाने की अभी तिथि तय है, फिर भी स्वास्थ्य महकमा तैयारियों में जुट गया है। जिले की आबादी के हिसाब से वैक्सीन मिलने की संभावना है। इस वैक्सीन को नियमित टीकाकरण की वैक्सीन के साथ नहीं रखा जाएगा। इसलिए कोरोना वैक्सीन के भंडारण के लिए रामादेवी स्थित सीएमओ कार्यालय परिसर में पांच सौ वर्ग फीट का अलग हाॅल का निर्माण कराया जा रहा है।


वैक्सीन रखने काे आए दो डब्ल्यूआइसी

सीएमओ कार्यालय परिसर स्थित मंडलीय कोल्ड चेन में एक अलग हॉल बनाया जा रहा है। वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए दो वॉश इन कूलर (डब्ल्यूआइसी) आ गए हैं। डब्ल्यूआइसी बड़े कमरे की तरह होते हैं, जिनमें अलग-अलग केबिन होते हैं। डब्ल्यूआइसी में 2 से 8 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान पर कोरोना वैक्सीन सुरक्षित रखी जाएगी।


पहले इन्हें लगेगी वैक्सीन

सरकारी क्षेत्र के डाॅक्टर, फार्मासिस्ट, नर्सिंग स्टॉफ, स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े कर्मचारी, एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं आशा कार्यकर्ता। निजी क्षेत्र के डॉक्टर एवं नर्सिंग स्टॉफ।


हेल्थ वर्कर की यह सूचना जरूरी


हेल्थ वर्कर्स की सूचना एकत्र की जा रही है। उसमें उनका आधारकार्ड नंबर, पैन कार्ड और मोबाइल नंबर जरूरी है। उनके आंकड़े एकत्र करके उन्हें ऑनलाइन सीएमओ को भेजा जाएगा।


कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाने से पहले की तैयारियां शुरू हैं। इस वैक्सीन को अलग रखा जाएगा, इसलिए दो डब्ल्यूआइसी मंगाए गए हैं। मंडलीय कोल्ड चेन सेंटर में एक हॉल भी बनाया जा रहा है।


- डॉ. अनिल मिश्रा, सीएमओ, कानपुर नगर।


वैक्सीन ट्रॉयल की स्थिति


इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और भारत बायोटेक के सहयोग से स्वदेशी वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। पहले व दूसरे चरण में 42 वालंटियर्स को वैक्सन लगाई जा चुकी है। उन पर कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखा है, बल्कि एंटी बाॅडी के बेहतर टाइटर बने हैं। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में रशियन वैक्सीन के तीसरे फेज का ट्रायल शुरू करने के लिए वालंटियर्स का पंजीकरण हो रहा है। इसमें 200 पर वैक्सीन का ट्रायल किया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments