Up Election : उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज फिर बिगड़े बोल, कब्रिस्तान-श्मशान को लेकर विवादित बयान

  • कब्रिस्तान के लिए भूमि आरक्षित, श्मशान के लिए निजी भूमि घोर अन्याय


प्रारब्ध न्यूज ब्यूरो, उन्नाव


सांसद साक्षी महाराज।
विवादित बयानों के लिए चर्चित सांसद साक्षी महाराज के फिर से बोल बिगड़ गए। उन्होंने कब्रिस्तान और श्मशान को लेकर विवादित बयान दिया है।

उन्होंने कहा कि गांव में एक भी मुसलमान होने पर कब्रिस्तान बहुत बड़ा होता है। आबादी के अनुपात के हिसाब से कब्रिस्तान और शमशान होने चाहिए। हद तो यह है कि कब्रिस्तान के लिए भूमि आरक्षित होती है, जबकि श्मशान के लिए कोई स्थान आरक्षित नहीं होता है, जो घोर अन्याय है। वह सोमवार को बांगरमऊ विधानसभा क्षेत्र के फतेहपुर चौरासी ब्लाॅक क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी श्रीकांत कटियार के समर्थन में एक नुक्कड़ सभा करने के बाद कब्रिस्तान और श्मशान पर पत्रकारों से बातचीत के क्रम में बयान दिया, जिससे वह एक बार फिर से चर्चा में आ गए हैं।



सांसद ने कहा है कि कब्रिस्तान के लिए भूमि आरक्षित होती है, जबकि हिंदुओं के लिए श्मशान के लिए कोई स्थान आरक्षित नहीं होता। उन्हें शव को अपने खेत में दफन करना पड़ता है या गंगा किनारे। हिंदुओं के साथ यह घोर अन्याय नहीं तो और क्या है। सांसद ने कहा कि अगर किसी गांव में एक भी मुसलमान है तब भी कब्रिस्तान के लिए बड़ा भू भाग आरक्षित होता है, लेकिन हिंदुओं के लिए श्मशान की भूमि आरक्षित नहीं की जाती है। 


यह हमारा धैर्य ही है कि हम इसका विरोध नहीं करते। हमारे धैर्य की परीक्षा न ली जाए। साक्षी महाराज ने कहा कि आबादी के अनुपात में कब्रिस्तान और श्मशान के लिए भूमि आरक्षित की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारी शालीनता और धैर्य की परीक्षा न ली जाए तो बेहतर होगा। इस दौरान आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के साथ ही कार्यक्रम में कोविड-19 प्रोटोकॉल की अनदेखी भी हुई। बीजेपी प्रत्याशी श्रीकांत कटियार के समर्थन में नुक्कड़ सभा के दौरान  विवादित बयान दिया


Post a Comment

0 Comments